कृषि क्षेत्र में नयी जान फूंकने की प्रधानमंत्री की अपील

प्रधानमंत्री ने 2022 तक किसानों की आमदनी को दोगुना करने का लक्ष्य रखा।

 

प्रधानमंत्री ने किसानों की दशा सुधारने के लिये भारतीय कृषि में दोबारा नयी जान फूंकने के लिये प्रयास करने का आह्वाहन किया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने  इसके लिये अगले 6 सालों में किसानों की आय को दोगुना करने का लक्ष्य नीति निर्माताओं और राज्यों के सामने रखा है।

शनिवार को नई दिल्‍ली में आयोजित कृषि उन्‍नति मेले में भारतीय कृषि के लिए किसानों के साथ अपने विजन को साझा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह कार्य चुनौतीपूर्ण हो सकता है, लेकिन इसमें कोई शक नहीं है कि इस लक्ष्य को प्राप्त किया जाना बहुत महत्‍वपूर्ण है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि कृषि उन्नति मेला एक ऐसा मंच है, जो भारत के भाग्‍य को दोबारा लिख सकता है। उन्होंने कहा कि भारत के भविष्य का निर्माण कृषि विकास, भारत के किसानों और गांवों की समृद्धि की बुनियाद पर किया जा सकता है।

केंद्रीय बजट का जिक्र करते हुये प्रधानमंत्री ने कहा कि इसका इन क्षेत्रों पर दूरगामी प्रभाव पड़ेगा।

प्रधानमंत्री ने प्रौद्योगिकी और आधुनिकीकरण का उपयोग करते हुए भारतीय कृषि में अगली क्रांति लाने की जरूरत पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि भारत के पूर्वी इलाके में इसे प्राप्त करने की अधिकतम संभावना है और सरकार इस दिशा में काम कर रही है।

कृषि उन्नति मेले में प्रधानमंत्री मोदी, साथ में कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह, राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह।

कृषि उन्नति मेले में प्रधानमंत्री मोदी, साथ में कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह, राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह।

प्रधानमंत्री ने बताया कि किस प्रकार इनपुट लागत घटाकर किसानों की आय बढ़ाई जा सकती है। उन्‍होंने कहा कि मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना और प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना इनपुट लागत घटाने की दिशा में बहुत महत्‍वपूर्ण कदम हैं।

प्रधानमंत्री ने खेती की गतिविधियों में विविधता के माध्‍यम से किसानों की आय बढ़ाने का आह्वान किया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि फसल उगाने के साथ-साथ किसान अपने खेतों के किनारे इमारती लकड़ी के पेड़ लगाने का विकल्‍प चुन सकते हैं और पशु पालन का कार्य भी शुरू कर सकते हैं। उन्‍होंने कहा कि कृषि गति‍विधियों में विविधिता से कृषि के साथ जुड़े जोखिम भी कम हो जाएंगे।

प्रधानमंत्री ने ‘प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना’ के लाभों के बारे में प्रकश डालते हुए कहा कि इस योजना के लिए व्‍यापक विचार-विमर्श किया गया है। उन्होंने कहा कि इस योजना की विशेषता है न्यूनतम प्रीमियम द्वारा अधिकतम सुरक्षा।

प्रधानमंत्री ने 2014-15 के लिए राज्‍यों और किसानों को कृषि कर्मण पुरस्कार प्रदान किए। उन्‍होंने किसानों के लिए ‘किसान सुविधा’ मोबाइल एप्‍लीकेशन का भी शुभारंभ किया। यह किसानों को मौसम, बाजार मूल्यों, उर्वकों, कीट नाशकों और कृषि मशीनरी जैसे विषयों पर जानकारी उपलब्ध कराएगा।

Be the first to comment on "कृषि क्षेत्र में नयी जान फूंकने की प्रधानमंत्री की अपील"

आप इस खबर पर अपनी प्रतिक्रिया यहां पर दे सकते हैं।

%d bloggers like this: