गुलबर्ग सोसायटी हत्याकांड मामले में 11 को उम्रकैद

2002 में हुये गुजरात दंगों में अकेले गुलबर्ग सोसायटी में 68 लोग मारे गये थे।

2002 के गुलबर्ग सोसायटी हत्याकांड मामले में आज सजा का ऐलान कर दिया गया। अदालत ने अभियोजन पक्ष की मौत की सज़ा की दलील को नहीं माना। अदालत ने कहा कि दोषियों में सुधार की गुंजाईश है।

गुजरात के गुलबर्ग सोसायटी नरसंहार मामले में एसआईटी अदालत ने 11 दोषियों को मौत तक आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। इसके अलावा एक को 10 साल और बाकि बचे 12 को सात साल के कारावास की सजा सुनाई गई है।

जिन 11 लोगों को उम्रक़ैद की सज़ा सुनाई गई है उनमें से नौ 2002 से जेल में बंद है।

फाइल फोटो - गुलबर्ग सोसायटी के दंगों में मारे गये कांग्रेस के पूर्व सांसद एहसान जाफरी की पत्नी जकिया जाफरी।

फाइल फोटो – गुलबर्ग सोसायटी के दंगों में मारे गये कांग्रेस के पूर्व सांसद एहसान जाफरी की पत्नी जकिया जाफरी।

अहमदाबाद के मेघाणीनगर थाना इलाके की गुलबर्ग सोसायटी पर 28 फरवरी 2002 को दंगाइयों ने हमला बोल दिया था, जिसमें कुल 69 लोगों की जान गई, जिनमें से एक कांग्रेस के पूर्व सांसद एहसान जाफरी थे।

गुलबर्ग सोसायटी दंगा कांड 27 फरवरी 2002 को हुए गोधरा कांड के ठीक अगले दिन हुआ था।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर इस मामले की जांच एसआईटी ने की और आखिरकार चौदह साल बाद इस मामले में अब सजा का एलान हुआ। जकिया जाफरी ने कहा कि उनकी लड़ाई अभी खत्म नहीं हुई है।

अभियोजन पक्ष ने सभी दोषियों के लिए फांसी की सज़ा की मांग की थी।

वहीं बचाव पक्ष ने दोषियों की सामाजिक, आर्थिक, आपराधिक रिकार्ड और सुधार की गुंजाईश को ध्यान में रखने की दलील दी थी।

Be the first to comment on "गुलबर्ग सोसायटी हत्याकांड मामले में 11 को उम्रकैद"

आप इस खबर पर अपनी प्रतिक्रिया यहां पर दे सकते हैं।

%d bloggers like this: